June 15, 2021

अन्तरिक्ष में प्रथम । First in space

First in space

यहाँ पर हमने अन्तरिक्ष में प्रथम (First in space) तथा अन्तरिक्ष अनुसंधान के विषय में महत्वपूर्ण तथ्य एवं परीक्षा उपयोगी प्रश्न तैयार किये है। यदि आप विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे: एसएससी, आईपीएस, पुलिस सब-इंस्पेक्टर, बैंक पी.ओ, सी.डी.एस, संविदा शिक्षक, पी.एस.सी, रेलवे, पटवारी, व्यापमं तथा अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे है तो यह प्रश्न General Knowledge in Hindi Medium/English Medium में आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होंगे।

अन्तरिक्ष अनुसंधान (Space research)

भारत में अन्तरिक्ष सम्बन्धी खोजों की शुरूआत 1972 ई. में अन्तरिक्ष विभाग एवं अन्तरिक्ष आयोग की स्थापना द्वारा हुई। अन्तरिक्ष विकास एवं आविष्कारों से सम्बन्धित प्रमुख संस्थान निम्नलिखित है –

(1) विक्रम साराभाई अन्तरिक्ष केन्द्र (थुम्बा) (VCC)
(2) श्री हरिकोटा रेंज (आंध्र प्रदेश) (SHAR)
(3) फिजीकल रिसर्च लेबोरेटरी (अहमदाबाद)
(4) स्पेस एप्लीकेशन सेन्टर (अहमदाबाद)।

अन्तरिक्ष में उड़ान सम्बन्धी नियमों की घोषणा– सर्वप्रथम सर आइजक न्यूटन ने (1642 – 1727) में अन्तरिक्ष उड़ान से सम्बन्धित नियमों का उल्लेख अपनी पुस्तक ‘मैथेमेटीकल प्रिन्सिपिल्स ऑफनेचुरल फिलॉस्फी’ में किया।

अन्तरिक्ष में प्रथम (First in space)

अन्तरिक्ष में सर्वप्रथम उपग्रह (Satellite) भेजने वाला देश– सोवियत संघ ने सर्वप्रथम ‘स्पूतनिक’ सैटेलाइट 4 अक्टूबर, 1957 में भेजकर एक कीर्तिमान स्थापित कर दिया।

प्रथम अन्तरिक्ष यात्री– सोवियत संघ के यूरी गगारिन ‘वोस्टक’ अन्तरिक्ष यान द्वारा सर्वप्रथम अन्तरिक्ष में गए, यह कीर्तिमान 12 अप्रैल, 1961 को स्थापित किया गया।

अन्तरिक्ष में जाने वाली प्रथम महिला – सोवियत संघ की वेलन्टीना तेरेश्कोवा को सर्वप्रथम अन्तरिक्ष में जाने का गौरव 16 जून, 1963 को प्राप्त हुआ, जबकि उन्होंने यह उड़ान ‘वोस्टक -6’ के माध्यम से भरी।

अन्तरिक्ष में विचरण करने वाला प्रथम व्यक्ति– सोवियत अन्तरिक्ष यात्री लेफ्टीनेंट कर्नल ऐलेक्सी ए. लियोनोव (Lt. Col. Aleksey A. Leonov) विश्व के प्रथम व्यक्ति हैं, जिन्होंने अन्तरिक्ष यान वोस्कोड -2 (Voskhod -2) से बाहर निकलकर 18 मार्च, 1965 को अन्तरिक्ष में विचरण कर एक कीर्तिमान स्थापित किया।

सर्वप्रथम चन्द्र तल पर पहुँचने वाला व्यक्ति– अमरीकी अन्तरिक्ष यात्री नील आर्मस्ट्रांग ने सर्वप्रथम चन्द्रतल पर कदम रखकर 21 जुलाई, 1969 को यह कीर्तिमान स्थापित किया, अपोलो -11 से सम्बद्ध लूनर मॉड्यूल की सहायता से नील आर्मस्ट्रांग तथा एडविन एलड्रिन चन्द्र तल पर पहुंचे।

प्रथम मानवरहित अन्तरिक्ष यान, जो स्वत: चन्द्र तल पर उतरा और फिर पृथ्वी पर वापस आयालूना -16 (सोवियत संघ), 29 दिसम्बर, 1970 ।

अन्तरिक्ष में सबसे अधिक समय तक रहने का नया रिकॉर्ड– नासा की अंतरिक्ष यात्री क्रिस्टीना कोच ने किसी भी महिला यात्री द्वारा अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा समय बिताने का रिकॉर्ड बनाया है। 28 दिसंबर 2020 को क्रिस्टीना अंतरिक्ष में 289 दिनों तक रहने वाली दुनिया की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री बनी। एवं सबसे लंबे समय तक सिंगल स्पेस फ्लाइट का एक नया रिकॉर्ड स्थापित किया। वे अब भी अन्तर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर है। आइएसएस में उनके अभियान के दिनों में बढ़ोतरी की गई है। वह 328 दिन अंतरिक्ष में बिताएंगी और यह किसी महिला द्वारा अंतरिक्ष में बिताया गया सबसे लंबा समय होगा।

इससे पहले 2016-17 में अंतरिक्ष यात्री पैगी व्हिट्सन ने 288 दिन अंतरिक्ष स्टेशन में बिताने का रिकॉर्ड बनाया था। पुरुषों में सबसे अधिक 340 दिन स्कॉट केली ने अंतरिक्ष स्टेशन में बिताए हैं। यह रिकॉर्ड 2015-16 में बनाया गया था।

अन्तरिक्ष में तैरने वाली प्रथम रूसी महिलास्वेतलाना सवित्यकाया

अन्तरिक्ष में तैरने वाली प्रथम अमरीकी महिलाकैथी सलीवान

प्रथम संचार उपग्रहटेलस्टार

प्रथम वाणिज्यिक संचार उपग्रहअर्ली बर्ड (Early Bird)

अन्तरिक्ष में दो बार जाने वाली प्रथम अमरीकी महिलासैली राइड

अमरीका का प्रथम स्पेस शटलकोलम्बिया

भारत का प्रथम उपग्रह, जो अन्तरिक्ष में गयाआर्यभट्ट

भारत का प्रथम अन्तरिक्ष यात्रीस्क्वाड्रन लीडर राकेश शर्मा

अन्तरिक्ष में जाने वाला प्रथम अमरीकी यात्रीएलन शेपर्ड

भारतीय मूल की (अमरीकी नागरिक) प्रथम महिला अन्तरिक्ष यात्रीकल्पना चावला

भारत का पहला दूर संवेदी उपग्रहआई.आर.एस. – 1 ए (प्रक्षेपण तिथि 17 मार्च, 1988)

सबसे कम आयु का अन्तरिक्ष यात्री– सोवियत अन्तरिक्ष यात्री कर्नल घेरमान एस. टिटोव (Col. Gherman S. Titov) ने 25 वर्ष 326 दिन की आयु में वोस्टोक -2 (Vostok – 2) से 6 अगस्त, 1961 को अन्तरिक्ष यात्रा कर यह कीर्तिमान स्थापित किया।

प्रथम महिला जिसने कोलम्बिया शटल में अन्तरिक्ष दल का नेतृत्व कियाई. कॉलिन्स, अमेरीका (जुलाई 1999)

चीन का प्रथम चालक रहित स्पेस शटलशेन्झू (Shenzhou)

अन्तर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन (ISS) में जाने वाली प्रथम यूरोपियन महिलाक्लॉडी हेग्नेरे (Claudi Heignere) (फ्रांस की)

किसी छोटे तारे (Asteroid) पर उतरने वाला पहला अन्तरिक्ष यानअमेरीका NEAR नाम का अन्तरिक्ष यान जो 13 फरवरी, 2001 को EROS नाम के asteroid पर उतरा।

अन्तरिक्ष में जाने वाला प्रथम पर्यटकडेनिस टीटो

अन्तरिक्ष में जाने वाला द्वितीय पर्यटक दक्षिणी अफ्रीका का प्रथम अन्तरिक्ष पर्यटकमार्क शटलवर्थ

सात बार अन्तरिक्ष यात्रा पर जाने वाले पहले अन्तरिक्ष यात्रीजेरी रॉस (अमरीका)

अमरीकी प्रथम स्पेश शटल जो अतिरिक्ष से लौटते समय पृथ्वी पर उतरने के कुछ मिनट पूर्व दुर्घटनाग्रस्त हो गया और सातों अंतिरिक्ष यात्री मारे गएकोलम्बिया

चीन का प्रथम अंतरिक्ष यात्रीयांग लीवी (अक्टूबर 2003)

चन्द्रयान-I– चंद्रमा के लिए भारत का पहला मिशन चंद्रयान -1 (1300 किग्रा. वजन) का सफल प्रक्षेपण आंध्र प्रदेश में श्रीहरिकोटा स्थित धवन अंतरिक्ष केन्द्र से 22 अक्टूबर, 2008 को ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण वाहन (PSLV- सी 11) के जरिये किया गया। यह विश्व का 68वाँ चन्द्र अभियान है। चंद्रयान -1 अपने साथ राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा भी लेकर गया, जिसे मून इम्पैक्ट प्रोब चंद्रमा की सतह पर 14 नवम्बर, 2008 को स्थापित किया। अमेरिका, यूरोप, रूस, जापान एवं चीन के पश्चात् भारत ऐसा छठा देश है, जो चंद्रमा के लिए यान भेजने में सफल हुआ है।

यह भी पढ़ें:-

भारत में प्रथम (महिला)

भारत में सर्वाधिक बड़ा, लम्बा एवं ऊँचा

(आप हमें Facebook, Twitter, Instagram और Pinterest पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!