मध्य प्रदेश का भौगोलिक परिचय

madhy pradesh ka bhaugolik parichay

यहाँ पर हमने मध्य प्रदेश का भौगोलिक परिचय (madhy pradesh ka bhaugolik parichay) के बारे में परीक्षा उपयोगी अति महत्वपूर्ण जानकारी इस आर्टिकल के द्वारा शेयर की है। म. प्र. का भौगोलिक परिचय टॉपिक से मध्यप्रदेश की विभिन्न परीक्षाओं में प्रश्न पूछें जा चुके है। यदि आप विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे है तो यह प्रश्न आपको मध्य प्रदेश की किसी भी कॉम्पटीटिव एग्जाम को क्रेक करने में उपयोगी और मददगार सिद्ध होंगे। यदि प्रश्नों में कुछ त्रुटि नजर आये तो आप हमें कमेंट के माध्यम से अवगत कराये ताकि हम उस त्रुटि को वेबसाइट पर सही कर सके। धन्यवाद !

मध्य प्रदेश का भौगोलिक परिचय (Geographical Introduction of Madhya Pradesh)

म.प्र. का भौगोलिक विस्तार 21°6′ से 26°30′ उत्तरी अक्षांश तथा 74°9′ से 82°48′ पूर्वी देशान्तर के मध्य है। प्रदेश की सीमा न तो किसी समुद्री सीमा और न ही अंतर्राष्ट्रीय सीमा को छूती है, इसीलिए म.प्र. को पूर्णत: भू – आवेष्ठित राज्य कहा जाता है। भारत का सबसे बड़ा भू – आवेष्ठित राज्य भी म.प्र. है।

➢ म.प्र . की सीमा 5 राज्यों को छूती है जिसमें उत्तरप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ है।

➢ मध्य प्रदेश राज्य के उत्तर में उत्तरप्रदेश, पूर्व में छत्तीसगढ़, पश्चिम में गुजरात, राजस्थान, दक्षिण में महाराष्ट्र स्थित है।

➢ म.प्र. का क्षेत्रफल 308252 वर्ग कि.मी. है। भारत के कुल भौगोलिक क्षेत्र का 9.38 % हिस्सा म.प्र. का है।

➢ भू – वैज्ञानिक दृष्टि से म.प्र. सर्वाधिक प्राचीनतम गोंडवाना लैण्ड का भाग है। गोंडवाना शैल समूह को लोअर गोंडवाना, मध्य गोंडवाना तथा अपर गोंडवाना समूह में बाँटा गया है।

➢ प्रदेश के पश्चिम भाग में ‘दक्कन ट्रेप’ की चट्टानें तथा पूर्वी भाग में विन्ध्य शैल समूह पाया जाता है।

➢ फिजियोग्राफिक मैप ऑफ इण्डिया में म.प्र. को तीन वृहद प्रदेशों में बाँटा गया है, जो क्रमश: मध्य उच्च प्रदेश, पूर्वी पठार तथा उत्तरी दक्कन के नाम से पहचाने जाते हैं।

सीमावर्ती राज्यों से लगे जिले

क्र.राज्य जिले
1.उत्तरप्रदेश (13 जिले)मुरैना, भिण्ड, दतिया, शिवपुरी, अशोकनगर, सागर, टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना, सतना, रीवा, सिंगरौली, निवाडी
2.राजस्थान (10 जिले)झाबुआ, रतलाम, नीमच, मन्दसौर, गुना, राजगढ़, आगर – मालवा, शिवपुरी, श्योपुर, मुरैना
3.महाराष्ट्र (9 जिले)आलीराजपुर, बड़वानी, खरगोन, खण्डवा, बुरहानपुर, बैतूल, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट
4.छत्तीसगढ़ (6 जिले)सीधी, सिंगरौली, शहडोल, अनूपपुर, डिण्डोरी, बालाघाट
5.गुजरात (2 जिले)झाबुआ, आलीराजपुर

म.प्र. के संभाग और उनके अंतर्गत आने वाले जिले

क्र.संभागजिले
1.इन्दौर (8)इन्दौर, धार, झाबुआ, खरगोन, बड़वानी, खण्डवा, बुरहानपुर, आलीराजपुर
2.जबलपुर (8)जबलपुर, मण्डला, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, कटनी, डिण्डोरी
3.उज्जैन (7)उज्जैन, रतलाम, देवास, मंदसौर, नीमच, शाजापुर, आगर – मालवा
4.सागर (6)सागर, दमोह, पन्ना, छतरपुर, टीकमगढ़, निवाड़ी
5.ग्वालियर (5)ग्वालियर, शिवपुरी, दतिया, गुना, अशोकनगर
6.भोपाल (5)भोपाल, सीहोर, रायसेन, राजगढ़, विदिशा
7.रीवा (4)रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली
8.नर्मदापुरम (3)होशंगाबाद, बैतूल, हरदा
9.चम्बल (3)मुरैना, भिण्ड, श्योपुर
10.शहडोल (3)शहडोल, उमरिया, अनूपपुर

➢ लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन का नाम ‘लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स’ में दर्ज किया गया। उनके नाम एक ही पार्टी के टिकट पर लगातार 8 बार लोकसभा के लिए निर्वाचित होने का रिकार्ड है। वे ऐसा करने वाली देश की पहली महिला है। वे म.प्र. के इन्दौर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से 1989, 1991, 1996, 1998, 1999, 2004, 2009 व 2014 लोकसभा चुनावों में निर्वाचित हो चुकी है।

➢ मध्य प्रदेश में कुल जिलों की संख्या 52 है।

➢ निवाड़ी जिले को टीकमगढ़ जिले से 1 अक्टूबर 2018 को गठित कर मध्य प्रदेश का 52वां जिला बनाया गया।

➢ निवाड़ी जिले के अंतर्गत 3 तहसीलें निवाड़ी, पृथ्वीपुर और ओरछा है।

जनसंख्या और क्षेत्रफल दोनो के आधार पर निवाडी (Area – 1318 वर्ग कि.मी.) मध्यप्रदेश का सबसे छोटा जिला बन गया है।

➢ इससे पहले क्षेत्रफल में मध्यप्रदेश का सबसे छोटा जिला दतिया जिला (Area- 2691 वर्ग कि.मी.) था। तथा जनसंख्या की दृस्टि से सबसे छोटा जिला आगर-मालवा था।

➢ निवाड़ी जिले में बेतवा नदी होकर गुजरती है एवं ओरछा के किनारे बसा हुआ नगर है।

➢ निवाड़ी जिले के प्रथम कलेक्टर- अक्षय कुमार तथा निवाड़ी जिले के प्रथम अधीक्षक – मुकेश श्रीवास्तव है।

यह भी पढ़ें:-

मध्य प्रदेश का सामान्य परिचय

मध्य प्रदेश के प्रथम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top